• in

    7वी फेल लड़का खुदका बिज़नेस शुरू कर बना 50 करोड़ रूपए का मालिक

    Image Source

    कहते है की जब किसी के मन में सिर्फ आगे बढ़ने की इच्छा और उमंग हो तो उसे कोई चीज़ नहीं रोक सकती। इस बात को सही साबित करते हुए आज हम आपके लिए लाए है एक ऐसे शख्स की सक्सेस स्टोरी जो कभी 4000 रूपए महीना कमाता था लेकिन उसकी इच्छा और उमंग ने उसे 50 करोड़ की कंपनी का मालिक बना दिया। हम बात कर रहे है “विमल पटेल ” की तो पढ़िए उनकी स्टोरी।

    जब पिताजी ने ही निकाला घर के बाहर

    Image Source

    गुजरात के आणंद से ताल्लुक रखने वाले विमल पटेल का बचपन से ही पढाई में बिल्कुल भी मन नहीं था और शायद यही वजह थी की वे 7वी फ़ैल हो गए थे। एक दिन विमल का पड़ोसी से झगड़ा हो गया। उनके पिताजी उनसे इतने खफा हुए कि उन्होंने विमल को घर से निकाल दिया।

    सीखा हीरा तराशने का काम

    Image Source

    विमल के पिता हीरे तराशने का काम किया करते थे और परिवार की अच्छी हालत न होने के कारण पढाई छोड़ उन्होंने भी अपने पिताजी से हिरे तराशने का काम सीखा ।

    मात्र 4000 रूपए महीने में भरा अपना पेट

    Image Source

    घर से बाहर निकाल दिए जाने के बाद वक़्त की मार से सीख लेते हुए विमल ने अपना हौसला नहीं खोया और मुंबई का रुख किया। विमल ने मुंबई में अपनी नई ज़िन्दगी की शुरुआत हिरे तराशते हुए एक मजदूर के रूप में की । उस समय
    उन्हें दिन भर मजदूरी के लिए महीने के सिर्फ चार हज़ार रूपये पगार मिलती थी और उसी से उनका दाना-पानी चलता।

    शुरू किया जेमस्टोन की ब्रोकिंग का काम

    Image Source

    विमल ने मजदूर के रूप में दो साल काम किया उनकी तनख्वाह 75 फीसदी तक बढ़ भी गई, लेकिन वे जानते थे कि वे अगर ऐसे ही चलते रहे तो कभी आगे नहीं बढ़ पाएंगे। विमल के कुछ मित्र रफ डायमंड व जेमस्टोन की दलाली का काम
    करते थे और बदले में कमीशन पाते थे। सन 1997 में विमल ने भी अपने दोस्तों के साथ काम करना शुरू किया और बिजनेस की बारीकियों को सीखा।

    अपनी कंपनी की आधारशिला रखी

    Image Source

    सन 1998 में विमल ने गुजराती होने का प्रमाण देते हुए खुद का धंधा शुरू कर लिया। उन्हें श्रीलंका और थाईलैंड के कारोबारी और लोकल ट्रेडर्स और ज्वेलर्स के बीच दलाली करनी होती थी। उन्हें इस काम के लिए हर दिन 1 हजार
    से 2 हजार रु. कमिशन मिलने लगा। उन्होंने मुंबई के आस-पास के इलाके में अपनी पैठ जमाई और सन 1999 में 50 हज़ार रूपये की सेविंग्स से “विमल जेम्स” नामक कंपनी की आधारशिला रखी।

    एक बार फिर पटेल शून्य पर आकर खड़े हुए

    Image Source

    शुरुआत में उन्होंने अपने ही कुछ भाईयों की मदद से कंपनी को चलाना शुरू किया और एक साल के बाद उनकी कंपनी ने 8 लोगों की सहायता से 15 लाख रूपए का टर्नओवर कर लीया। लेकिन सन 2001 विमल के लिए बेहद दुखद रहा। उनके यहाँ काम करने वाला एक कर्मचारी ट्रेडर के 29 लाख रूपए के हीरे और जैमस्टोन लेकर फरार हो गया। विमल को अपनी सारी इनवेस्टमेंट खर्च कर उस ट्रेडर के नुकसान की भरपाई करनी पड़ी। और वे एक बार फिर वे शून्य पर आकर खड़े हो गये। लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी सुर एक बार फिर शून्य से शुरुआत किया। साल-दर-साल मेहनत करते हुए उन्होंने एक बार फिर सफलता के पायदान पर चढ़ने शुरू कर दिए।

    सन 2008 की मंदी में फिर लगा झटका

    Image Source

    विमल अपनी पिछली परेशानियों से उभरे ही थे की सन 2008 की मंदी ने उन्हें दूसरा झटका दिया। लेकिन इस बार विमल पीछे हटने वाले नहीं थे उन्होंने मंदी का सामना करने के लिए रिटेल की दुनिया में कदम रखा और
    उन्होंने जलगांव में अपनी पहली ज्वैलरी स्टोर खोली और साथ ही एक एस्ट्रोलॉजर भी हायर किया। उनका आइडिया यह था कि स्ट्रोलॉजर की मदद से ग्राहक अपने लिए सही रत्न चुनें और पहनें। आइडिया इतना कारगर साबित हुआ
    कि पहले ही दिन लाखों रूपये की बिक्री हुई और जिसके बाद फिर विमल ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा।

    आज अकेले महाराष्ट्र में है उनके 52 स्टोर्स

    Image Source

    ज़िन्दगी में कई बार धक्के खाने के बाद खड़े हुए विमल पटेल की सुवर्णस्पर्श जेम्स एंड ज्वेलरी के आज महाराष्ट्र में 52 स्टोर हो चुके हैं और उनकी कंपनी प्राइवेट इक्विटी के जरिए 40 करोड़ रु. जुटाने वाली है। इतना ही नहीं विमल ने वाशी में जेम्स और ज्वलरी के लिए फैक्टरी भी शुरू की है। वे जल्द ही पूरे देश में कामकाज का विस्तार भी करने वाले है।

    एक साधारण हिरा तराशने वाले मजदूर से लेकर कारोबारी बनने वाले विमल पटेल का यह सफर आपको कैसा लगा हमें कमेंट बॉक्स में हमें ज़रूर बताए और इस प्रेरणादायक कहानी को अपने मित्रो के साथ भी साझा करे।

  • in

    मच्छरों से जुड़े कुछ रोचक तथ्य । Interesting Facts about Mosquitoes in Hindi

    Image Source

    मच्छर देखने में तो छोटा सा जीव है लेकिन यह हर साल लाखो लोगो की मौत का कारण बनते है। यह एक ऐसा जीव है जिससे डॉक्टर्स भी हमें बचने की सलाह देते रहते है तो आइये जानते है इन्ही मच्छरों से जुड़े कुछ रोचक तथ्य ।

    1. मच्छर एक ऐसा किट है जो संसार में सभी जगह पाया जाता है ।

    2. आपको जानकार हैरानी होंगी कि केवल मादा मच्छर ही इंसान को काटती है नर मच्छर कभी नहीं काटता ।

    3. नर मच्छर केवल पेड़-पौधों का रस चूसने का काम करते हैं ।

    4. मादा मच्छर को अंडे पैदा करने के लिए प्रोटीन की जरुरत होती है इसलिए वह हमारा खून चूसती है ।

    5. हैरानी वाली बात है की जब मादा मच्छर एक बार शरीर में खून भर लेती है तब वह 2 दिन के लिए आराम करने चले जाती हैं ।

    6. मच्छर “Culicidae” नामक फॅमिली का प्राणी है जिसे दुनिया में सबसे घातक पशु परिवार माना जाता है ।

    7. दुनिया भर में अभी तक मच्छरों की करीब 3,500 प्रजातियां देखि जा चुकी हैं ।

    8. मच्छर दांत से खून नहीं चूसते,बल्कि उनके पास एक पैनी सूंड जैसी होती है जिससे वो खून चूसते हैं ।

    9. एक मच्छर अपने वजन से 3 गुना ज्यादा खून पी सकता है ।

    10. मच्छरों के इस धरती पर होने के प्रमाण करीब 8 करोड़ साल पुराने है ।

    11. मादा मच्छर एक बार में करीब 300 से ज्यादा अंडे देती है ।

    12. मच्छर पानी में पैदा होते है और अंडे से निकलने के बाद मच्छर अपने शुरूआती 10 दिन पानी में ही बिताते हैं ।

    13. काफी लोगो को भ्रम होता है की HIV ग्रस्त व्यक्ति को काटे हुए मच्छर के काटने से HIV फैलता है लेकिन आपको बता दे की मच्छरों के काटने से HIV नहीं फैलता ।

    14. हमारे पसीने से ही मच्छर हमारे खून के बारे में पता लगा लेते हैं ।

    15. आप यकीन नहीं करेंगे मगर मच्छर इंसान की साँस तक सूंघ लेते हैं ।

    16. मच्छर बहुत ज्यादा दूर और बहुत तेजी से नहीं उड़ सकते ।

    17. नर मच्छर मादा मच्छर को उनके पंखों की आवाज से भी पहचान लेते हैं ।

    18. मादा मच्छर 6 से 8 हफ़्तों तक ज़िंदा रहती है जबकि नर मच्छर का जीवन
    काल केवल 10 दिन तक होता है ।

    19. मच्छर मलेरिया, पीलिया, चिकनगुनिया, वेस्ट नाइल वायरस, डेंगू ,
    फिलारायसीस और ज़िका वायरस जैसे घातक रोग फैलाता है ।

    20. जिनमे से मलेरिया मच्छरों दवारा फैलाया जाने वाला सबसे खतरनाक रोग है ।

    21. साइंटिस्टस का कहना है कि “O” ब्लड ग्रुप वालो को अन्य लोगों की तुलना में मच्छर अधिक काटते हैं ।

    22. मच्छरों को दिखाई नहीं देता यह हीट,मॉइस्चर और कॉर्बन-डाई-ऑक्साइड से इंसानो का पता लगा लेते है ।

    23. मच्छर के पंख उड़ते वक्त करीब 300 से 600 बार आपस में टकराते है। इसलिए जब मच्छर हमारे पास आते है तो हमें पिन-पिनाने की एक आवाज सुनाई देती है।

  • in

    8वीं फेल होने के बाद अपने शौक को बनाया कॅरिअर, आज सीबीआई से लेकर रिलायंस चलती है इनके इशारे पर

    कुछ बड़ा और अनोखा करने के लिए बड़ी डिग्री की ही जरुरत नहीं होती,यह बात 8वी फ़ैल त्रिशनित ने साबित कर दी है। कम्प्यूटर में गहरी दिलचस्पी होने की वजह से त्रिशनित पढ़ाई के दौरान एग्जाम में फेल भी हुए, फिर उन्होंने अपने शौक को ही अपनी सफलता में बदल दिया पढ़िए त्रिशनित अरोड़ा की दिलचस्प कहानी।

    Image Source

    त्रिशनित अरोड़ा एक एथिकल हैकर हैं। इनका जन्म 2 नवंबर सन 1993 मे हुआ था लुधियाना के एक मध्यम-वर्गीय परिवार में पले-बढ़े त्रिशनित को बचपन से ही पढ़ाई में कम और कंप्यूटर में ज्यादा दिलचस्पी थी। पूरे दिन कंप्यूटर में
    हैकिंग सीखने की वजह से त्रिशनित की बिल्कुल भी पढ़ाई नहीं हो पाती और वह 8वीं में फेल हो गये थे ।

    12वीं तक कॉरेस्पॉन्डेंस से की पढ़ाई

    फ़ैल होने के बाद लेकिन त्रिशनित के घर वालो ने खूब नाराज़गी जताई लेकिन त्रिशनित ने हार नहीं मानी और कंप्यूटर में अपनी रूचि को बरकरार रखते हुए रेग्युलर पढ़ाई छोड़कर 12वीं तक कॉरेस्पॉन्डेंस से पढ़ाई करने का फैसला किया।

    पेरेंट्स को उनका काम पसंद नहीं था

    त्रिशनित की हाउस वाइफ मां और अकाउंटेंट पिता उनकी कंप्यूटर के प्रति रूचि और उनके इस काम को पसंद नहीं करते थे। इसके लिए उन्हें डाँट भी खानी पड़ी लेकिन फिर भी वह डटे रहे।

    कंप्यूटर में ही बनाया कॅरिअर

    Image Source

    बचपन से कंप्यूटर में ही दिलचस्पी होने के कारण वह दिन भर कंप्यूटर में ही लगे रहते थे. उनकी दीवानगी इस कदर थी की वे कंप्यूटर चलाने के अलावा कुछ और काम करना पसंद ही नहीं करते थे,इसीलिए त्रिशनित ने कंप्यूटर
    में ही अपना कॅरिअर बनाने का निश्चय किया और फिर दिन-रात नई-नई जानकारियां इकठ्ठा करने शुरू कर दि।

    हैकिंग में बनाई पकड़

    Image Source

    शुरुआत में त्रिशनित को कोई भी गंभीरता से नहीं ले रहा था लेकिन उन्होंने हैकिंग में अपनी पकड़ को मजबूत बनाते हुए साबित किया कि कैसे विभिन्न कंपनियों का डाटा चुराया जा रहा है और वर्तमान में हैकिंग के क्या तरीके इस्तेमाल किए जा रहे हैं।

    महज़ 21 साल में बने CEO

    Image Source

    शुरुआत में लोग उनकी बातें सुन कर मुस्कुरा देते थे ,उनकी बातो को मीडिया भी गंभीरता से नहीं लेता था। लेकिन धीरे-धीरे उनके काम को मान्यता मिलने लगी,कंपनियां उनके काम को सराहने लगीं। त्रिशनित ने महज़ 21 साल की उम्र में एक साइबर सिक्यूरिटी फर्म की आधारशिला रखी और आज वे रिलायंस, सीबीआई, पंजाब पुलिस, गुजरात पुलिस, अमूल और एवन साइकिल जैसी कंपनियों को साइबर से जुड़ी सर्विसेज दे रहे हैं।

    दुबई-यूके में है वर्चुअल ऑफिस

    Image Source

    आज इनका कारोबार सिर्फ भारत तक ही सिमित नहीं है बल्कि दुबई और यूके में भी इनकी कंपनी का वर्चुअल ऑफिस है जहा करीब 40% क्लाइंट्स इन्हीं ऑफिसेस से डील करते हैं आपको बताते चले की इनकी कंपनी की दुनियाभर में 50 फॉर्च्यून और 500 कंपनियां क्लाइंट हैं।

    बिज़नेस को ले जाना चाहते है US

    Image Source

    त्रिशनित बताते है की अब वे कंपनी के बिजनेस को यूएस ले जान चाहते है। इतना ही नहीं वे कंपनी का टर्नओवर बढ़ाकर इसे दो हजार करोड़ रुपए तक ले जाना चाहते हैं।

    बनना चाहते है ग्रेजुएट

    Image Source

    त्रिशनित का कहना है कि फेल होने के बाद उन्हें ये समझ में आया कि ‘पैशन’ के आगे पढ़ाई मायने नहीं रखती। लेकिन फिर भी वह भविष्य में वक्त मिलने पर मैनेजमेंट के साथ ग्रैजुएशन करना चाहते है । त्रिशनित को ‘पंजाबी आइकन अवाॅर्ड’ दिया जा चुका है. पंजाब के मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल ने उन्हें गणतंत्र दिवस पर ‘स्टेट अवाॅर्ड’ दिया. त्रिशनित की सफलता की यह कहानी सच में बेहद प्रेरणादायक है। कृपया इसे ज़्यादा से ज़्यादा शेयर करे।

  • in

    कैसे एक कुली ने खड़ा किया 2500 करोड़ रूपए का साम्राज्य

    आज हम एक ऐसी व्यक्ति की कहानी लाए है जो आपके सफलता के सभी विचारों को बदल देंगी । हम बात कर रहे है एमजी मुथू की कहानी की जिन्होंने सच्चाई, कठोर परिश्रम, सादगी और ईमानदारी से अपने करोबार को आगे बढ़ाया और आज वेभारतीय उद्योग जगत का एक जाना-माना चेहरा हैं,तो पढ़िए इनकी कहानी ।

    बचपन से था करोबारी बनने सपना !

    Image Source
    Image Source

    मुथू का जन्म तमिलनाडु के छोटे से गांव में हुआ था। उनके पिता बड़े जमींदारों के घर मजदूरी किया करते थे, लेकिन मुथू का ख़ुद का एक करोबार शुरू करने का सपना था।

    सिर्फ एक वक़्त की रोटी होती थी नसीब।

    Image Source

    मुथू और उनके परिवार की आर्थिक हालात इतनी ख़राब थी कि कभी-कभी सिर्फ एक वक़्त सूखी रोटी ही नसीब हो पाती थी। जब वे 10 साल के थे तब उन्होंने दूसरे बच्चों को स्कूल जाते देख गांव के सरकारी स्कूल में जाना शुरू किया, लेकिन उन्हें भूखे पेट ही पढाई करनी पढ़ती थी ।

    छोड़ी पढाई

    Image Source

    स्कूल जाने के कुछ ही दिनों के अंतराल में मुथु ने अपनी पढ़ाई छोड़ दी और पिता के साथ ही काम करने शुरू कर दिया, उस दौर में बड़े-बड़े जमींदारों के फर्म हाउस में ये लोग सामानों की आवाजाही किया करते थे। वहाँ मुथु दिन भर काम करते और वही जो बची-खुची चीज़ खाने को मिलती उससे भूख मिटा लेते थे।

    कुली बनकर किया काम

    Image Source

    कुछ सालों तक ज़मींदारो के यहाँ काम करने के बाद सन1957 में इन्होंने मद्रास पोर्ट पर एक कुली के रूप में काम करने शुरू कर किया । कुली के रूप में कई सालों तक इन्होनें वहां सामान लोडिंग और अनलोडिंग का काम करते हुए कुछ पैसे बचा लिए। वहा मुथु ने वेंडरों के साथ भी अच्छे संबंध बनाए और सेविंग के कुछ रुपयों से अपना ख़ुद का एक छोटा सा लोजिस्टिक्स करोबार शुरू करने के बारे में सोचा ।

    शुरू किया कारोबार

    Image Source

    मुथु ने एक कुली होते हुए भी वहां के तत्कालीन कारोबारियों को टक्कर देने की बात सोची,जो अपने आप में बेमिसाल था। मुथु ने कारोबार शुरू किया और कुछ ही दिनों में उन्हें कुछ छोटे वेंडरों ने लोडिंग-अनलोडिंग के लिए ठेका दिया। शुरुआत में ही मुथू ने अपने मौजूदा ग्राहकों को गुणवत्ता से भरपूर सर्विसेज देने की कोशिश की, जो उनके करोबार को एक नई ऊँचाई प्रदान करने के लिए मील का पत्थर साबित हुई ।

    एमजीएम ग्रुप की स्थापना

    अपने करोबार को एक नाम देते हुए मुथु ने एमजीएम ग्रुप की स्थापना की। गुणवत्ता से भरपूर सर्विसेज देने की इनकी सोच ने इन्हें काफी कम दिनों में ही लोजिस्टिक्स जगत का टाइकून बना दिया। आज एमजीएम ग्रुप भारत की एक अग्रणी कंपनी में से एक है, जो लोजिस्टिक्स से लेकर कोयला और खनिज खनन, फूड चेन और होटल के अंतरराष्ट्रीय व्यापार समेत कई अन्य क्षेत्रों में अपनी छाप छोड़ चुकी है।

    फैलाया बिज़नेस

    Image Source

    हाल ही में एमजीएम ग्रुप ने तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश में कमल वाइनरी नाम की एक पेय पदार्थ बनाने वाली कंपनी को भी खरीद लिया। यह कंपनी आज तमिलनाडु में एक मजबूत वोडका ब्रांड के तौर पर है जिसका कारोबार धीरे-धीरे पड़ोसी राज्य कर्नाटक और आंध्र प्रदेश में भी फैल रहा है। एमजीएम ग्रुप के पास मशहूर मलेशियाई आधारित हलाल प्रमाणित फास्ट फूड रेस्तरां की श्रृंखला ‘मेरीब्राउन’ की भारतीय फ्रैंचाइज़ी भी है।

    आज MGM ग्रुप ऑफ़ कंपनी मार्केट में करीब 2500 करोड़ की वैल्यू रखता है। जिसके संस्थापक मुथु की कहानी हमें हर दम डटे रहना सिखाती है।

  • in

    चाय से जुड़े कुछ रोचक तथ्य – Interesting Facts about Tea in Hindi

    Image Source

    आपने चाय के कई शौकीन लोग देखे होंगे या आप हो सकता है की आप ही चाय के शौकीन हो लेकिन आप रोज़मर्रा की ज़िन्दगी में अहम किरदार निभाने वाली चाय के बारे में कितना जानते है ? तो आइये जानते है चाय(Tea) से जुड़े कुछ
    रोचक तथ्य एयर साथ ही इससे होने वाले फायदे व नुकसान भी ।

    1. माना जाता है की सबसे पहली चाय ईसा से 2732 साल पहले चीन के सम्राट “शैन नुंग” द्वारा पी गई थी ।

    2. दरअसल एक दिन चीन के एक राजा ‘शैन नुंग‘ के सामने रखे गर्म पानी के प्याले में, चाय की कुछ सूखी पत्तियाँ आकर गिरी जिससे पानी में रंग आ गया। जब राजा ने उसको पीया तो उन्हें स्वाद बहुत पसंद आया ओर बस चाय का
    सफर शुरू हुआ ।

    3. चाय,पानी के बाद सबसे अधिक पिया जाने वाला पाय पदार्थ है।

    4. भारत में सन 1835 में चाय के पहले बाग लगाए गए।

    5. पहले कुछ सदियों तक चाय का उपयोग एक दवाई के रूप में ही होता रहा,इसे रोज पीने की परंपरा पिछली सदी से ही शुरू हुई थी।

    6. एक अनुमान के मुताबिक़ दुनियाभर में चाय की 1500 से भी ज्यादा किस्में हैं।

    7. लेकिन काली चाय का इस्तेमाल कुल चाय के उपयोग का 75 प्रतीशत होता है।

    8. अफ़गानिस्तान और ईरान का राष्ट्रीय पेय (National drink) चाय है।

    9. भारत में चाय का उत्पादन मुख्य रूप से आसाम में होता है। चाय आसाम का ‘राजकीय पेय’ भी है।

    10. चीन दुनिया में चाय का सबसे बड़ा उत्पादक देश है भारत इस मामले में दूसरे स्थान पर है।

    11. चाय का सालाना उत्पादन करीब 50 लाख टन से भी ज़्यादा है।

    12. काली चाय की सबसे ज़्यादा खपत भारत ने ही होती है।

    13. भारत में हर व्यक्ति हर साल करीब 750 ग्राम चाय का सेवन करता है।

    14. अमेरिका में 80% चाय की खपत “Ice-Tea ” के रुप में होती है।

    15. 82% रशियन हर रोज़ चाय पिते है।

    16. तूर्की का लगभग हर व्यक्ति हर रोज़ करीब 10 कप चाय पीता है।

    17. खाली पेट ब्लैक टी पीने से पेट फूलता है।

    18. स्ट्रांग चाय पीने वालों को अल्सर होने का खतरा रहता है।

    19. चाय में कैफीन, एल-थायनिन और थियोफाइलिन होता है। इससे खाली पेट पीने से अपच हो सकती है।

    20. एक दिन में 4-5 कप चाय पीने से पुरुषों में प्रोस्टेट कैंसर की संभावना हो सकती है।

    21. चाय में एंटीऑक्सीडेंट शामिल होता है। चाय उम्र बढ़ने से आपके शरीर की रक्षा करती है।

    22. रोज़ छह कप से अधिक चाय पीने से दिल की बीमारी होने का खतरा एक तिहाई तक कम हो सकता है।

    23. चाय वास्तव में फ्लोराइड और में टैनिंन से बनी होती है जो प्‍लेग को दूर रखता है। इसीलिए स्वस्थ दांतों और मसूड़ों के लिए चाय लाभदायक है ।

  • in

    होठो से जुड़े कुछ रोचक तथ्य – Interesting Facts about Lips in Hindi

    खाना हो या बोलना हो हमारी दिनचर्या में होठो की बहुत अहम भूमिका होती है, होंठ कोमल, लचीले तथा चलायमान होते हैं जिस वजह से हम हमारे होठो की अच्छे से देखभाल रखते है तो आइये जानते है होठो से जुड़े कुछ रोचक तथ्य और यह भी जाने की क्या कहते है हमारे होठ ?

    1. विज्ञान की भाषा में ऊपरी-निचले होठ को क्रमशः “लेबिअम सुपीरिअस ऑरिस”
    तथा “लेबिअम इन्फ़ीरिअस ऑरिस” भी कहा जाता है ।

    2. होठ हमारे शरीर का एक ऐसा अंग है जिसमे पसीने की ग्रंथिया नहीं होती है ।

    3. जिस हिस्से में होंठ त्वचा के साथ मिलते हैं उस हिस्से को “वर्मिलियन
    बॉर्डर” कहते है ।

    4. आप यकीन नहीं करेंगे लेकिन हमारी ऊंगलियों के निशानों की तरह हमारे
    होठों के निशान भी अलग – अलग होते है ।

    5. होठों पर चमड़ी सिर्फ 3-4 परतो से मिलकर बनी होती है जिसकी वजह से
    उनके नीचे की खून की नसें ज्यादा दिखाई देती है और हमारे होंठ लाल-गुलाबी
    रंग के नज़र आते हैं ।

    6. उम्र बढ़ने के साथ ही हमारे होठों की मोटाई कम होने लगती है ।

    7. होठ के ईर्द – गिर्द ऑर्बिकुलरिस ओरिस (Orbicularis oris) नामक एक परत
    होती है। इस परत की वजह से ही हम होठों से सिटी मार पाते हैं ।

    8. मगरमच्छ एक ऐसा स्तनधारी जीव है जिसके होंठ नही होते है ।

    9. हमारे होंठ शरीर का एकलौता ऐसा भाग है जो बने तो शरीर के अंदर है, पर
    इनका फैलाव बाहर की और है ।

    10. हमारी नाक के बिल्कुल नीचे होंठो पर जो दो लकीरों की नाली सी बनी
    होती है उसे अंग्रेज़ी में ‘Philtrum’ कहते है ।

    11. मनुष्यों में होंठ स्पर्श संवेदी अंग होते है यह पुरुष तथा नारी के
    अंतरंग समय में कामुकता बढ़ाने का काम भी करते है ।

    12. दुनिया में कई ऐसी मान्यताए हैं जिनके मुताबिक़ महिलाओं का होंठ ढ़क
    कर रखना जरूरी है ।

    13. होठो के लक़वे को “Facial nerve paralysis” भी कहा जाता है ।

    14. एक शोध के मुताबिक़ जिस महिला के होंठ लाल, पतले चिकने, अच्छी आकृति
    वाले होते है वो महिला स्वभाव से सेक्सी तथा पति का प्यार पाने वाली होती
    है ।

    15. हम होठो से चूसना पैदा होने पर ही सिख जाते है ,यह लगभग सभी
    स्तनधारियों के लिए सच है ।

    16. एक रिपोर्ट के अनुसार होठो में करीब दस लाख से भी ज़्यादा नर्व एंडिंग
    होती हैं पर इनके पास अपने बचाव के लिए कोई रक्षक झिल्ली नहीं होती ।

    17. टमाटर का रस पीने से होंठों की रंगत बढ़ती है। गुलाबी होंठ पाने के
    लिए टमाटर का रस होंठों पर भी लगाया जा सकता है ।

    क्या कहते है आपके होठ ? :-

    18. जिनके होठ सामान्य से ज़्यादा अंदर धसे होते है ऐसा माना जाता है की
    वह लोग रहस्यमई होते है।

    19. सामान्य से अधिक बड़े होठ वाले लोग खाने पिने के शौकीन होते है ।

    20. उभरे हुए होठ वाले लोग दुसरो के मुकाबले ज़्यादा डरपोक माने जाते है ।

    21. आपको यह जानकार हैरानी होंगी की जिनके होठ पर तिल होता है वो लोग
    ज़्यादा कामुक स्वभाव के होते है ।

    22. लाल व चिकने हॉट रसिक हॉट कहलाते है ऐसे लोग कला प्रिय और अच्छे
    स्वभाव के होते है ।

    23. पतले होठ वाले व्यक्ति दिखावा करने वाले होते है और वे दुसरो को
    आकर्षित करने की कोशिश करते है ।

  • in

    स्टीफन विलियम हॉकिंग से जुड़े कुछ रोचक तथ्य | Interesting Facts about Stephen Hawking

    Image Source

    वह इंसान है जिसने विकलांग होने के बावजूद अपने आत्मविश्वास के बल पर खुद को विश्व का सबसे अनूठा वैज्ञानिक बनाया है | शारीरिक रूप से विकलांग होने के बावजूद उनकी जीने की चाह ने उन्हें एक महान व्यक्ति बनाया है तो आइये जानते है Stephen Hawking से जुड़े कुछ रोचक तथ्य |

    1. स्टीफन विलियम हॉकिंग का जन्म 8 जनवरी सन 1942 के दिन इंग्लैंड के ऑक्सफ़ोर्ड शहर में हुआ था ।

    2. वे एक भौतिक विज्ञानी, ब्रह्माण्ड विज्ञानी, लेखक और कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय में सैद्धांतिक ब्रह्मांड विज्ञान केन्द्र (Centre for Theoretical Cosmology) के शोध निर्देशक हैं।

    3. इसे आप संयोग कहे या कुछ और लेकिन यह सच है की महान वैज्ञानिक गलीलियो और स्टीफन हॉकिंग की जन्म तारीख एक ही है।

    4. Stephen के पिता डॉक्टर थे और माँ एक हाउस वाइफ थीं ।

    5. उनकी बुद्धि का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है की बचपन में लोग उन्हें “आइंस्टाइन” कह के पुकारते थे

    6. हॉकिंग का IQ 160 है जो किसी जीनियस से भी कहीं ज्यादा है।

    7. Stephen को घडियो की आंतरिक सरंचना को समझने में ज्यादा रूचि थी इसके लिए वो घड़ी के सारे पुर्जो को अलग कर उन्हें फिर जोड़ा करते थे ।

    8. Stephen के पास 12 मानद डिग्रियो के साथ-साथ अमरीका का सबसे उच्च नागरिक सम्मान भी है।

    9. स्टेफेन भले ही एक महान वैज्ञानिक हो लेकिन वे अपनी कक्षा में औसत से कम अंक पाने वाले छात्र थे ।

    10. उन्हें गणित में बहुत दिलचस्पी थी, यहाँ तक कि उन्होंने गणितीय समीकरणों को हल करने के लिए कुछ लोगों की मदद से पुराने इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों के हिस्सों से कंप्यूटर बना दिया था ।

    11. हॉकिंग Oxford University में गणित की डिग्री हासिल करना चाहते थे पर उस समय University में Math की डिग्री नही दी जाती थी। इसलिए उन्होंने Physics और Chemistry की पढ़ाई का चयन किया और इसमें आसानी से डिग्री हासिल कर ली।

    12. जब हॉकिंग 21 साल के थे, तब से उन्हें सीढ़ियो से उतरते वक्त बोहोशी महसूस होने लगी थी। डॉक्टर के पास जाने पर डॉक्टर ने इसे सामान्य कमजोरी बताया था,पर स्टीफन की समस्या दिन ब दिन बढ़ती ही जा रही थी, वो कोई भी काम ढंग से नही कर पाते थे।

    13. हॉकिंग को जब बड़े डॉक्टर के पास दिखाया गया तो पता चला कि स्टीफन को “न्यूरॉन मोर्टार डीसीस” नामक अनुवाशिंक बिमारी है, जिसका कोई इलाज नहीं। इस बिमारी में व्यक्ति के सभी अंग धीरे-धीरे काम करना बंद कर देते है ।

    14. जब डॉक्टरो ने कहा था कि स्टीफन अब ज्यादा से ज्यादा सिर्फ 2 साल के मेहमान हैं तब स्टेफेन ने कहा की मैं 2 नहीं, 20 नहीं पूरे 50 सालो तक जियूँगा और आज अपने आत्मविश्वास के बल पर स्टीफन 75 साल के हैं।

    15. हॉकिंग ने अपने जीवन में दो बार शादी की है और उनके तीन बच्चे भी है ।

    16. उन्हें भौतिकी के छोटे-बड़े कुल 12 पुरस्कारों से नवाजा जा चूका है ।

    17. हॉकिंग को अल्बर्ट आइंस्टीन पुरस्कार (1978) भी दिया जा चूका है ।

    18. उनकी प्रसिद्ध खोजो में ब्लैक होल और हॉकिंग रेडिएशन का विचार शामिल है।

    19. वे एक मशहूर लेखक भी है उनकी लिखी गयी किताब “A BRIEF HISTORY OF TIME “ ने दुनिया भर के विज्ञान जगत में तहलका मचा दिया था ।

    20. Stephen Hawking का अपनी दोनों बीवियों से तलाक हुआ था जिसका कारण उनका भगवान के अस्तित्व को चुनौती देना माना जाता है ।

    21. Stephen ने सन 2007 में अंतरिक्ष की सैर भी की थी जिसमे वो शारीरिक तौर पे “फिट “ पाए गए।

    22. Stephen किताबें पढ़ना और लिखना काफी पसंद करते है। लेकिन अपनी किताब में ईश्वर के अस्तित्व को नकारने पर उन्हें काफी विरोध का सामना भी करना पड़ा था ।

    23. Stephen Hawking को हर तरह का संगीत पसंद है, पॉप, क्लासिकल और ऑपेरा, हर तरह का।

  • in ,

    योगी आदित्यनाथ से जुड़े कुछ ऱोचक तथ्य – Interesting Facts about Yogi Adityanath

    Image Source

    देश के सबसे ज़्यादा आबादी वाले राज्य के नए मुख्यमंत्री बने योगी आदित्यनाथ हमेशा से ही अपने तीखे भाषणों को लेकर चर्चा में रहते है। अपनी कट्टर हिंदू सोच रखने वाले योगी आदित्यनाथ के बारे में कई ऐसी बाते है जो कोई नहीं जानता तो आइये जानते है उनके जीवन से जुड़े कुछ ऱोचक तथ्य।

    1. योगी आदित्यनाथ का असली नाम अजय सिंह बिष्ट है।

    2. योगी आदित्यनाथ का जन्म 5 जून सन् 1972 में उत्तराखण्ड में हुआ था।

    3. योगी हिन्दू युवा वाहिनी के संस्थापक भी हैं, जो हिन्दू युवाओं का सामाजिक, सांस्कृतिक और राष्ट्रवादी समूह है

    4. उनके पिता का नाम आनन्द सिंह बिष्ट है जो फॉरेस्ट रेंजर थे।

    5. वे ग्रेजुएट है योगी ने सन् 1992 में गणित में B.sc भी की है।

    6. योगी M.sc की पढ़ाई के दौरान गुरु गोरखनाथ पर शोध करने गोरखपुर गए यहां गोरक्षनाथ पीठ के महन्त अवैद्यनाथ की दृष्टि इन पर पड़ी और सन् 1994 में ये पूर्ण संन्यासी बन गए ।

    7. सन्यासी बनने के बाद ही इनका नाम इनका नाम अजय सिंह बिष्ट से योगी आदित्यनाथ पड़ा।

    8. योगी देश की बारहवीं लोक सभा (1998-99) के सबसे युवा सांसद थे।

    9. योगी आदित्यनाथ 5 बार सांसद बन चुके है।

    10. 7 सितम्बर सन् 2008 को योगी आदित्यनाथ पर आजमगढ़ में जानलेवा हिंसक हमला हुआ था। इस हमले में वे बाल-बाल बचे थे।

    11. योगी सीआरपीसी की धारा 151A, 146, 147, 279, 506 के तहत जेल भी जा चुके है।

    12. सन् 2005 में योगी आदित्यनाथ कथित तौर पर 1800 ईसाइयों का शुद्धीकरण कर  उन्हें हिन्दू धर्म में शामिल करा चुके है।

    13. योगी के आदेश पर गोरखनाथ मंदिर में होली और दीपावली भी एक दिन बाद मनाई जाती है।

    14. योगी की बाघ के बच्चे को दूध पिलाने की तस्वीरें सामने आ चुकी है।

    15. पाँचवी बार सांसद बनने पर योगी ने संस्कृत में शपथ ली थी।

    16. योगी आदित्यनाथ 19 मार्च सन् 2017 को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बन चुके है।

    17. वे अपने बगावती तेवरों के लिए जाने जाते हैं। सन् 2007 के यूपी चुनाव में उन्‍होंने पसंदीदा 100 उम्‍मीदवारों की लिस्‍ट भाजपा को भेजी थी। मांग नहीं मानने पर उनका पार्टी से मतभेद हो गया। बाद में राष्‍ट्रीय स्‍वयंसेवक संघ के हस्‍तक्षेप से यह विवाद सुलझा।

    18. योगी आदित्यनाथ UP के 21वे मुख्यमंत्री है।

    19. योगी UP के तीसरे सबसे युवा मुख्यमंत्री बने है। उनके साथ UP में पहली बार 2 उपमुख्यमंत्री भी बनाए गए है

    20. योगी पर दंगा भड़काने और हत्या के प्रयास जैसे 3 केस भी है।

    21. सन् 2017 के चुनाव में योगी ने करीब 200 से भी ज़्यादा रैलियां की और उसका नतीजा सबके सामने है।

    22. योगी अविवाहित है,भारत में इस वक़्त 5 अविवाहित CM है जिनमे से एक योगी आदित्यनाथ भी है।

    23. सूत्रों के मुताबिक योगी की कुल संपत्ति करीब 72 लाख है।

  • in

    आरएसएस से जुड़े कुछ ऱोचक तथ्य – Interesting Facts about RSS in Hindi

    Image Source

    RSS (Rashtriya Swayamsevek Sangh) के बारे में कौन नहीं जानता। इस संघटन कई बार आरोप लग चुके है और यह अपनी अलग विचारधारा के लिए अक्सर चर्चा में रहता है। लेकिन RSS से जुडी कई ऐसी बाते है जो कोई नहीं जानता तो आइये जानते है आरएसएस से जुड़े कुछ ऱोचक तथ्य और साथ ही उसके इतिहास के बारे में कुछ अनसुनी बाते भी ।

    1. RSS की स्थापना करीब 91 साल पहले 27 सितम्बर सन् 1925 में हुई थी।

    2. RSS के संस्थापक डॉ॰ केशव बलिराम हेडगेवार है।

    3. RSS का उद्देश्य हिन्दू राष्ट्रवाद की वकालत करना है। इसका मुख्यालय नागपुर , महाराष्ट्र में है।

    4. RSS की देशभर में करीब 60,000 से भी ज़्यादा शाखाएं है।

    5. RSS भारतीय जनता पार्टी(BJP) का व्यापक रूप से पैतृक संगठन माना जाता हैं।

    6. बीबीसी के अनुसार आरएसएस विश्व का सबसे बड़ा स्वयंसेवी संस्थान है।

    7. आरएसएस की स्थापना विजयदशमी पर हुई थी।

    8. आरएसएस के सरसंघचालक मोहन भागवत है। जो ब्राह्मण जाति से संबंध रखते है।

    9. मोहन भागवत जी भारत के उन लोगो में से है जिन्हें Z+ सुरक्षा दी जाती है।

    10. महात्मा गांधी की हत्या के बाद RSS का नाम उछाला गया था। कहा गया कि गोडसे RSS का ही सदस्य है जबकि गोडसे ने RSS को सन् 1930 में ही छोड़ दिया था। इसी समय पूरी दुनिया को पता चला की भारत में कोई राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ नाम का कोई संगठन भी है।

    11. उस समय सरदार वल्लभ भाई पटेल ने RSS पर बैन लगा दिया था और नेहरू चाहते थे कि RSS को हमेशा के लिए बैन कर दिया जाए।

    12. आरएसएस की पहली शाखा में सिर्फ 5 लोग(संघी) शामिल हुए थे और आज हर एक शाखा में लगभग 100 स्वयंसेवक है।

    13. RSS में महिलाएँ को शामिल होने की अनुमति नही है।

    14. आरएसएस की सुबह लगने वाली शाखा(Class) को ‘प्रभात शाखा‘ कहते है। शाम को लगने वाली शाखा को ‘सायं शाखा‘ कहते है।

    15. आरएसएस की शाखाओं में शाखा के अंत में एक प्रार्थना गाई जाती है “नमस्ते सदा वत्सले…” यह संघ की स्थापना के 15 साल बाद गाई जाने लगी।

    16. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की शाखाएं सिर्फ भारत में ही नही बल्कि दुनिया के 40 देशो में है।

    17. शायद आप सभी जानते होंगे की आरएसएस की ड्रेस में काली टोपी, सफेद शर्ट, कपड़े की बेल्ट, खाकी निक्कर, चमड़े के जूते है। लेकिन अब खाकी निकर की जगह पूरी पैंट कर दी गई है।

    18. RSS का अपना भगवा रंग का एक अलग झंडा भी है और आरएसएस किसी आदमी को नही बल्कि भगवा ध्वज को ही अपना गुरू मानती है।

    19. आरएसएस ने सन् 1962 में भारत-चीन के युद्ध में सरकार का पूरा साथ दिया था।

    20. RSS के प्रचारक को संघ के लिए काम करते समय तक अविवाहित ही रहना होता है।

    21. RSS की सबसे ऱोचक बात यह है कि RSS में सिर्फ हिन्दू ही नहीं बल्कि मुस्लिम भी है। सन् 2002 से RSS एक ‘Muslim Rashtriya Manch’ नाम की विंग चलाती है। जिसमें लगभग 10,000 मुस्लिम है।

    22. नरेंद्र मोदी समेत कई दिग्गज भाजपा नेता आरएसएस के प्रचारक रह चुके है।

    23. RSS के सदस्य अपने ज्यादातर काम खुद ही करते है जैसे कपड़े धोना, भोजन बनाना आदि।

  • in ,

    राजीव दीक्षित से जुड़े कुछ ऱोचक तथ्य – Interesting Facts about Rajiv Dixit in Hindi

    Image Source

    आप सभी ने अब तक देश को पूर्ण स्वदेशी बनाने की सिर्फ बाते या बयान सुने होंगे लेकिन आज हम आपको जिस शख्स के बारे में बताने वाले है जिसकी रग-रग में स्वदेशी बहता था तो आइये जानते है क्रांति लाने वाले राजीव दीक्षित से जुड़े कुछ ऱोचक तथ्य।

    1. राजीव दीक्षित का जन्म 30 नवंबर सन् 1967 में यूपी में हुआ था।

    2. राजीव जी एक भारतीय वैज्ञानिक तथा प्रखर वक्ता थे।

    3. राजीव दीक्षित जी ने भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान- कानपुर से एम.टेक में डिग्री हासिल की थी ।

    4. राजीव दीक्षित जी जीवनभर अविवाहित रहे।

    5. वे “आजादी बचाओ आन्दोलन” के संस्थापक भी थे।

    6. बाबा रामदेव ने उन्हें भारत स्वाभिमान (ट्रस्ट) के राष्ट्रीय महासचिव का दायित्व भी सौंपा था।

    7. वे देशभर में राजिव भाई के नाम से जाने जाते थे।

    8. यदि आज राजीव दीक्षित जिंदा होते तो वे भारत में स्वेदेशी और आयुर्वेद का सबसे बड़ा ब्रांड बनाते।

    9. माना जाता है कि उन्होंने डाॅ. अब्दुल कलाम के साथ भी काम किया था।

    10. आप यकीन नहीं करेंगे लेकिन राजीव दीक्षित अंगूठे पर मेथी का दाना बाँधकर जुकाम ठीक कर लेते थे।

    11. उनका कहना यह भी था कि वे पिछले 20 सालों में कभी बीमार नही पड़े थे।

    12. राजिव जी बचपन से ही देश की समस्याओं को जानने के लिए इच्छुक थे। वे बचपन में हर महीने 800 रूपए सिर्फ मैगजीन और अखबार पढ़ने में खर्च करते थे।

    13. वे देश से वैश्वीकरण और उदारीकरण को जड़ से उखाड़ फेंकना चाहते थे। और देश में स्वदेशी क्रांति लाना चाहते थे

    14. राजिव जी भारत के मेडिकल सिस्टम को आयुर्वेद पर आधारित करना चाहते थे। और विदेशी कंपनियों का सफाया करना चाहते थे।

    15. वे भारत के एजुकेशन सिस्टम को बदलकर गुरुकुल बेस्ड सिस्टम बनाना चाहते थे।

    16. राजीव दीक्षित ने अपने जीवन में करीब 13 हजार से भी ज्यादा व्याख्यान दिए, इनके व्याख्यान आज भी इंटरनेट पर उपलब्ध है।

    17. राजीव जी के गुरु मशहूर इतिहासकार और प्राध्यापक “धर्मपाल” जी थे।

    18. उनके बारे में हैरानी वाली बात यह भी थी के वे नेहरू को देश के सबसे बड़े दुश्मन की तरह देखते थे

    19. उन्होंने कई विवादस्पद दावे किए थे जैसे भोपाल गैस त्रासदी कोई हादसा नही बल्कि भारतीय गरीबों पर कराया गया अमेरिका का एक परीक्षण था, वे कहते थे कि 9/11 का हमला खुद अमेरिका ने करवाया था और भारत के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू गाय का माँस खाते थे।

    20. सन् 2009 में राजीव और रामदेव ने एक आंदोलन शुरू किया था जिसका नाम ‘भारत स्वाभिमान आंदोलन‘ था। इस आंदोलन का मकसद था भारत को पूरी तरह स्वदेशी बनाना।

    21. उनकी मौत उनकी जन्म तारीख 30 नवम्बर सन् 2010 को भिलाई, छत्तीसगढ़ में हुई थी।

    22. डॉक्टरों की माने तो उनकी मौत दिल का दौरा पड़ने से हुई और राजीव ठीक भी हो सकते थे लेकिन मरने से पहले उन्होंने ऍलोपैथिक इलाज से लगातार परहेज किया। चिकित्सकों का यह भी कहना था कि दीक्षित होम्योपैथिक दवाओं के लिये अड़े हुए थे।

    23. राजीव दीक्षित की मौत आज भी रहस्यमय मानी जाती है।

  • in

    होली के बारे में कुछ रोचक तथ्य – Interesting Facts about Holi in Hindi

    Image Source

    होली के बारे में यही कहा जाता है कि यह खुशियो का त्यौहार है जिसमे दुश्मन भी गले मिलते है । होली भारत के सबसे अहम् त्योहारो में से एक है जिसे हर साल करोड़ों लोग दुनियाभर में बड़ी धूम से बनाते है तो आइये जानते है होली के बारे में कुछ रोचक तथ्य ।

    1. होली हिंदू पंचांग के अनुसार फाल्गुन मास की पूर्णिमा को मनाया जाता है।

    2. माना जाता है कि होली के दिन पुरानी कटुता को भूल कर गले मिलते वाले फिर से दोस्त बन जाते हैं।

    3. होली को फगुआ, धुलेंडी, दोल अदि नामो से भी जाना जाता है ।

    4. होली का त्योहार वसंत पंचमी से ही आरंभ हो जाता है। उसी दिन पहली बार गुलाल उड़ाया जाता है। इस दिन से फाग और धमार का गाना प्रारंभ हो जाता है।

    5. होली मनाने की प्रथा का उल्लेख करीब ईसा से 300 वर्ष पूर्व का है ।

    6. होली का त्यौहार लगभग सभी धर्मो द्वारा मनाया जाता है ।

    7. शाहजहाँ के ज़माने में होली को ईद-ए-गुलाबी या आब-ए-पाशी (रंगों की बौछार) कहा जाता था।

    8. होली दो दिन का पर्व है ,पहले दिन होली का दहन और दूसरे दिन रंगों से खेल जाता है ।

    9. होली को फाल्गुन माह में मनाए जाने के कारण इसे फाल्गुनी भी कहते हैं।

    10. होली को कवियों और साहित्यकारों ने”मस्ती का त्यौहार” कहा है क्योंकि इस वक्त हर कोई खुश होता है।

    11. सुप्रसिद्ध मुस्लिम पर्यटक अलबरूनी ने भी अपने ऐतिहासिक यात्रा संस्मरण में होलिकोत्सव का वर्णन किया है

    12. बादशाह अकबर भी जोधाबाई के साथ तथा जहाँगीर नूरजहाँ के साथ होली खेलते थे ।

    13. कुछ लोग का यह भी कहना हैं कि भगवान श्रीकृष्ण ने इस दिन पूतना नामक राक्षसी का वध किया था। इसी खु़शी में गोपियों और ग्वालों ने रासलीला की और रंग खेला था इसी कारण बृज में होली की बहुत मान्यता है।

    14. ऐसा भी माना जाता है की होली में रंग लगाकर, नाच-गाकर लोगो को शिव के गणों का वेश धारण होता है।

    15. होली का पर्व भारत के अलावा नेपाल और अन्य भारतीय प्रवासी देशो में भी धूमधाम से मनाया जाता है।

    16. आप सभी को शायद पता होंगा की भारत में व्रज, मथुरा, वृन्दावन और बरसाने की लट्ठमार होली व श्रीनाथजी, काशी आदि की होली बहुत ही प्रसिद्ध है ।

    17. भारत के कई हिस्सों में आज भी खेले काने वाली होली पाँच दिन तक मनाई जाती है।

    18. संभवत होली ही एकमात्र ऐसा त्यौहार हैं जो भारत के सभी 29 राज्यों में मनाया जाता हैं।

    19. होली के दिन ही महाऋषि मनु का भी जन्म हुआ था।

    20. होली का त्यौहार उत्तर-अमेरिका तथा यूरोप में भी हर साल बड़ी धूम से मनाया जाने लगा है ।

    21. वैदिक काल में होली (Holi) के पर्व को न्वान्नेष्ठ यज्ञ कहा जाता था। इस यज्ञ में अधपके अन्न को यज्ञ में हवन करके प्रसाद लेने का विधान समाज में था । उस अन्न को होला कहते है तब से इसे होलिकात्स्व कहा जाने लगा । और तभी से होलिका दहन के समय अधपके अन्न के रूप में गेहू की बालियों को पकाकर उसे प्रसाद के रूप में लेते है ।

    22. होली के पीछे यह घटना मानी जाती है कि हिरण्यकश्यप नाम का एक राक्षस हुआ करता था जो कि खुद को भगवान मानने लगा था और जो कोई उनका विरोध करता था तो उसे वो मार देता था लेकिन जब उनके बेटे प्रहलाद ने उसका विरोध किया तो उन्होंने अपनी बहन होलिका से कहा कि वो इसे आग में लेकर बैठ जाये क्योंकि होलिका को वरदान मिला था कि वो जल नहीं सकती लेकिन हुआ इससे उलट, वो जल गई और प्रहलाद बच गया तब से होलिका-दहन होने लगा।

    23. महाभारत काल में युधिष्ठिर ने भी होली का महत्व बताते हुए कहा था कि इस दिन जनता को भय रहित क्रीडा करनी चाहिए । होली के दिन हसने ,कूदने ,नाचने से पापात्मा का अंत हो जाता है । उन्होंने अपनी जनता को होली की ज्वाला की तीन परिक्रमा करके हास परिहास करने को कहा था तब से होली खुशियों और उमंगो के त्यौहार के रूप में मनाया जाता है ।

  • in

    श्री लाल बहादुर शास्त्री जी से जुड़े कुछ ऱोचक तथ्य – Interesting Facts about Lal Bahadur Shastri

    भारत के सबसे चर्चित और सफलतम प्रधानमंत्रियों में से एक श्री लाल बहादुर शास्त्री जी का जीवन दुखो से भरा पड़ा था लेकिन फिर भी वे दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र देश के प्रधानमंत्री बने और बखूबी अपना काम संभाला तो आइये जानते है उनकी बरसी पर Lal Bahadur Shastri से जुड़े कुछ ऱोचक तथ्य।

    1. श्री लाल बहादुर शास्त्री जी का जन्म 2 अक्टूबर सन 1904 को उत्तर प्रदेश के मुगलसराय में हुआ था

    2. शास्त्री जी के पिताजी प्राथमिक विद्यालय में शिक्षक थे अत: सब उन्हें मूंशी जी कह कर बुलाते थे।

    3. परिवार में सबसे छोटा होने के कारण बालक लालबहादुर को परिवार वाले प्यार में नन्हें कहकर ही बुलाया करते थे।

    4. उनके पिता जी का नाम शारदा श्रीवास्तव प्रसाद और माता जी का नाम रामदुलारी देवी था। उनकी दो बहनें थीं।

    5. शास्त्री जी के सिर से उनके पिता का साया महज़ 18 महीने की उम्र में ही उठ गया था।

    6. लाल बहादुर शास्त्री बेहद बुद्धिमान थे और आर्थिक तंगी के कारण वो नदी तैरकर स्कूल में पढ़ाई करने जाते थे।

    7. लाल बहादुर शास्त्री ने काशी विद्यापीठ से शास्त्री की उपाधि मिलते ही जन्म से चले आ रहे जातिसूचक शब्द श्रीवास्तव को हटा कर अपने नाम के आगे हमेशा के लिए शास्त्री लगा लिया था।

    8. लाल बहादुर जी की शादी मिर्जापुर की ललिता देवी से हुई थी।

    9. लाल बहादुर जी दहेज़ प्रथा के खिलाफ थे उन्होंने दहेज के तौर पर एक चरखा और कुछ गज कपड़ा ही लिया था।

    10. सन् 1964 में लाल बहादुर शास्त्री ने भारत के दूसरे प्रधानमन्त्री के रूप में बागडोर संभाली थी।

    11. वे नेहरू जी के बाद करीब 18 महीने तक भारत के प्रधानमंत्री रहे थे।

    12. लाल बहादुर शास्त्री के शासन में ही सन् 1965 में भारत-पाक युद्ध शुरू हो गया था। जिसमे भारत ने पाकिस्तान को करारी शिकस्त दी थी।

    13. लाल बहादुर शास्त्री जी की 6 संतान थी।

    14. “मरो नहीं, मारो!” का नारा लालबहादुर शास्त्री ने ही दिया जिसने क्रान्ति को पूरे देश में प्रचण्ड किया।

    15. शास्त्री जी भारत सेवक संघ से जुड़े हुए थे और उन्होंने संस्कृत भाषा में स्नातक स्तर तक की शिक्षा भी समाप्त कर ली थी।

    16. स्वतन्त्रता के बाद शास्त्री जी को उत्तर प्रदेश के संसदीय सचिव के रूप में नियुक्त किया गया था। उन्होंने कांग्रेस को अनेक चुनाव में जीत दिलाने में अहम भूमिका निभाई थी।

    17. भीड़ को नियंत्रित करने के लिए लाठी की जगह पानी की बौछार का प्रयोग शास्त्री जी ने ही आरंभ किया था।

    18. “जय जवान-जय किसान” का नारा शास्त्री जी ने ही दिया था।

    19. देश की सभी बसो या अन्य परिवहन में जो आप महिलाओं के लिए आरक्षित सीट देखते हैं उनकी शुरुआत भी लाल बहादुर शास्त्री जी ने ही की थी।

    20. लाल बहादुर शास्त्री सिद्धान्तवादी थे एक रेल दुर्घटना के बाद उन्होंने अपने पद से इस्तीफा दे दिया था।

    21. भगत सिंह के जीवन पर बनी फ़िल्म ‘शहीद’ देखकर लाल बहादुर शास्त्री जी रो पड़े थे।

    22. सूखे की मार झेल रहे भारत को जब अमेरिका ने गेहूँ देने से मना कर दिया तब शास्त्री जी ने कहा की “नही चाहिए हमे तुम्हारें गले-सड़े गेहूँ..” और देशवासियों से अपील की कि हफ्ते में एक दिन उपवास रखे ताकि अनाज की कम लागत हो।

    23. लाल बहादुर शास्त्री जी की मृत्यु आज तक एक रहस्य बनी हुई है। दरअसल उनकी मौत चीन में ताशकन्द समझौते पर हस्ताक्षर करने के बाद हार्ट अटैक से हुई थी।

    24. बहुत कम लोगो को मालूम है कि लाल बहादुर शास्त्री जी बाल गंगाधर जी से काफी प्रभावित थे।

    25. लाल बहादुर शास्त्री जी को देश के सर्वोच्च नागरिक पुरुस्कार “भारत रत्न” से भी नवाजा जा चूका है।

Load More
Congratulations. You've reached the end of the internet.